राज्य

प्रदेश एक्सप्रेस - मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान राजगढ़ जिले में कुंडालिया बांध का करेंगे लोकार्पण

Posted by Divyansh Joshi on



1
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज झाबुआ जिले के पेटलावद में कहा कि किसानों को फसल नुकसानी के लिये राज्य शासन द्वारा राहत प्रदान करने की व्यवस्था की जायेगी। उन्होंने बताया कि प्याज और लहसुन उत्पादक किसानों को शीघ्र ही भावांतर राशि का भुगतान किया जायेगा। श्री चौहान 2050.70 करोड़ लागत की नर्मदा-झाबुआ-पेटलावद माइक्रो उद्वहन सिंचाई परियोजना का शिलान्यास करने के बाद विशाल जनसभा को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर पेटलावद नगर परिषद में विकास कार्यों के लिये विशेष निधि से एक करोड़ रुपये देने की घोषणा की।
2
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 08 सितम्बर को राजगढ़ जिले में कुंडालिया बांध का लोकार्पण और सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली का शिलान्यास करेंगे। कुंडालिया सिंचाई परियोजना से राजगढ़ और आगर मालवा जिलों में कुल सवा लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बेहतर सिंचाई सुविधा उपलब्ध होगी। कुंडालिया बांध का निर्माण कार्य वर्ष 2015 में प्रारंभ किया गया था।
3
बीते चौबीस घंटों में प्रदेशभर में तेज बारिश हुई है। कई इलाकों में नदी नाले उफान पर आ गए है, तालाब का जलस्तर बढ़ गया है, बिलगढ़ा बांध के 9 गेट खोले गए है, निचले इलाकों में पानी भर गया है, मकान ढह गए है, कई जगहों पर हालात बाढ़ की तरह हो चले है। मौसम विभाग ने फिर से आगामी चौबीस घंटों में भारी बारिश की संभावना जताई है।मौसम के अचानक बदलाव का कारण उत्तर पूर्वी मध्यप्रदेश और आस-पास के इलाके में बना कम दबाव का क्षेत्र बताया जा रहा है। मानसून ट्रफ लाइन अति कम दबाव के क्षेत्र से होकर उड़ीसा के बालासोर से बंगाल की खाड़ी तक बनी है।
4
कांग्रेस के दिग्गज नेता और चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भरे मंच से पवई विधानसभा से वर्तमान विधायक मुकेश नायक को प्रत्याशी घोषित कर दियाद्य सिंधिया ने नायक का हाथ उठाकर जनता से अपील की कि इस बार उन्हें पचास हजार मतों से विजयी बनाना हैद्य मंच से मुकेश नायक को प्रत्याशी घोषित करने से पार्टी में खलबली मच गई है, दावेदारों में इसको लेकर विरोध शुरू हो गया हैद्य वहीं सिंधिया को स्थानीय कार्यकर्ताओं का विरोध भी झेलना पड़ाद्य
5
मध्यप्रदेश में चुनावी साल में सरकार की मुश्किलें कम होने का नाम नही ले रही है। आए दिन कोई ना कोई वर्ग सरकार के सामने अपनी मांग रख मनवाने में लगा हुआ है। अब मप्र लघु वेतन कर्मचारी संघ ने सरकार के खिलाफ आवाज उठाई है। शुक्रवार को संघ ने जिले-जिले में प्रदर्शन कर अपनी मांगे रखी और मुख्यमंत्री के साथ साथ मुख्य सचिव को 12 सूत्रीय मांगों का मांग पत्र सौंपा। वही मांगे पूरी ना होने पर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी है।