राज्य

एम.पी.लाइव

Posted by khalid on



मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुनहानपुर जिले के खकनार स्थित साई मंदिर परिसर में विशाल सभा को किया संबोधित

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खरगोन जिले के भीकनगॉव में बिंजलवाड़ा उद्वहन सिंचाई योजना का किया भूमि-पूजन

और वित्त मंत्री जयंत मलैया ने भोपाल में जीएसटी पर केन्द्रित पुस्तिका का किया विमोचन

1 मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खरगोन जिले के भीकनगांव में 745 करोड़ रूपये लागत की बिंजलवाड़ा उद्वहन सिंचाई योजना का भूमि-पूजन किया। उन्होंने कहा कि यह निमाड़ क्षेत्र की पहली योजना है, जिसमें किसी भी किसान की भूमि का अधिग्रहण नहीं किया जाएगा। बिंजलवाड़ा उद्वहन सिंचाई योजना से 129 गांव की 50 हजार 164 हेक्टेयर कृषि भूमि को उद्वहन सिंचाई की सुविधा उपलब्ध होगी। योजना में सम्पूर्ण जल वितरण पाईप प्रणाली से किया जाएगा।

2 पूर्व राष्ट्रपति एवं महान शिक्षाविद् स्व. डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म-दिवस पर आज भोपाल में राज्य-स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह आयोजित किया गया। समारोह में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने स्कूल शिक्षा के क्षेत्र में श्रेष्ठ कार्य करने वाले 44 शिक्षकों को शॉल-श्रीफल और प्रशस्ति-पत्र भेंट कर सम्मानित किया। इन शिक्षकों को 25 हजार रुपये के मान से सम्मान राशि भी प्रदान की गई। राज्य-स्तरीय समारोह में राज्यपाल ने पिछले वर्ष के राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार प्राप्त शिक्षकों को भी सम्मानित किया। इन शिक्षकों को राज्य सरकार की ओर से 5 हजार रुपये के मान से सम्मान राशि भेंट की गई।


3 मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुरहानपुर में करीब 104 करोड़ की भावसा मध्यम सिंचाई परियोजना का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि ग्रेवटी सूक्ष्म भूमिगत पाइप लाईन प्रणाली वाली जिले की यह पहली परियोजना है। इससे किसानों को बिना बिजली खर्च किये खेतों तक सिंचाई के लिए पानी मिलेगा।शिलान्यास कार्यक्रम में महिला बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनिस, सांसद नन्द कुमार चौहान , प्रभात झा, अन्य जन-प्रतिनिधि ,किसान और ग्रामीण मौजूद थे।

4 वित्त मंत्री जयंत मलैया ने भोपाल में जीएसटी पर केन्द्रित पत्रिका का विमोचन किया। पत्रिका में जीएसटी में किये गये प्रावधानों का सरल भाषा में समावेश किया गया है।इस मौके पर अपर मुख्य सचिव मनोज श्रीवास्तव ने कहा कि देश में आर्थिक क्षेत्र में जीएसटी को बड़े बदलाव के रूप में माना गया है। देश में विभिन्न प्रकार के करों का एकीकरण कर जीएसटी के रूप में सरलीकरण किया गया है। उन्होंने कहा कि जीएसटी कानून की समाज में जितनी सरल भाषा में अधिक से अधिक चर्चा की जायेगी, उसका उतना अधिक लाभ करदाता और कर संग्रहणकर्ता को मिलेगा।